MyBlog


View My Stats

शनिवार, 1 अक्तूबर 2011

जब से मैं खुद से मिला हूँ ...


जब से मैं खुद से मिला हूँ !

मैं अकेला हो चला हूँ!



चाँद खुद से नहीं रौशन ,

मैं मगर जलता दीया हूँ !



ठोकर लगी तो बैठ जाऊं ?

आँधियों का सिलसिला हूँ !



वो मुझमे देखता है अक्स अपनी ,

महबूब का मैं आइना हूँ !



फूल जैसे धूल में लिपटे हुए हों ,

जैसा भी हूँ अपनी माँ का लाड़ला हूँ !





- संकर्षण गिरि

3 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ..बहुत खूब
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. धूल में लिपटा रहूँ या पंक से सनूँ ,
    मैं कमल हूँ,और हर दम ही खिला हूँ.

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं